लोकनायक जय प्रकाश नारायण राष्ट्रीय अपराधशास्त्र एवं विधि-विज्ञान संस्थान

प्रवेश संबंधी अधिसूचना

एम00/एम0एस0सी0अपराधशास्त्र तथा न्यायालयिक विज्ञान-तीसरा बैच

    प्रवेश पूरे हो चुके हैं । यदि आप मेरिट लिस्ट में हैं और निरस्त होने/ड्रॉप आउट के कारण खाली सीट पर प्रवेश हेतु अवसर का लाभ उठाना चाहते हैं तो कृपया संस्थान से संपर्क करें ।

                                                                                                                                डीन (टी0पी0)28, जुलाई 2006

मेरिट सूची (विधि विज्ञान / अपराधशास्त्र))


            टॉप                                                                                                 होम

पत्र-पत्रिकाएं आई-बुलेटिन बैक-इश्यूज़ अनुदेश

लोक नायक जयप्रकाश नारायण राष्ट्रीय अपराधशास्त्र एवं विधि विज्ञान संस्थान

अपराधशास्त्र एवं अपराध-साक्ष्य विज्ञान (Criminalistics) का भारतीय जर्नल


लेखक के लिए अनुदेश


  1.  

प्रकाशनार्थ लेख मूल रूप में होने चाहिए तथा एक ही समय में कहीं अन्य प्रकाशनार्थ विचाराणीय न हों । इस संदर्भ में प्रत्येक लेख के साथ एक प्रमाणपत्र संलग्न करना होगा ।

  1.  

लेख की शब्द-सीमा 5000 शब्दों से अधिक नहीं होनी चाहिए ।

  1.  

टाइप किए गए अथवा किसी भी कंप्युटर प्रिंटर पर प्रिंट किए गए, अच्छे क्वालिटी के काग़ज़ पर डबल लाईन में चौड़े हाशिए सहित, लेख दो प्रतियों में भेजे जाने चाहिए ।

  1.  

100-200शब्दों में लेख-सार एवं लेखक के बारे में संक्षिप्त आत्म कथात्मक नोट तथा लेखक का नाम,पदनाम,डाक पता/-मेल पता लेख के साथ प्रेषित करने होंगे ।

  1.  

लेख की एक प्रति लेखक अपने पास रखे क्योंकि प्रकाशनार्थ भेजा गया मूल लेख वापस नहीं किया जा सकेगा ।

  1.  

लेख प्रूफ रीडिंग किया हुआ तथा त्रुटि रहित होना चाहिए

  1.  

जहाँ कहीं आवश्यक हो, फूट नोट एवं ग्रंथसूची संबंधी संदर्भ उपयुक्त क्रमाँक सहित लेख में दिए जाएं ।

  1.  

मोनोग्राफ,लेखों एवं सांख्यिकीय स्त्रोत को उपयुक्त स्थान पर दर्शाना चाहिए । लेखक का अंतिम नाम, पृष्ठ संख्यांकन, प्रकाशन का वर्ष, जहाँ उपयुक्त हो, सब कोष्ठ में दिया जाए । पूर्वोक्त (ibid), उक्त ग्रंथ में (op cite) अथवा उल्लिखित परिच्छेद में (loc cite) लिखने की आवश्यकता नहीं है । सभी संदर्भ वर्णक्रमानुसार एवं निम्न रूप में होने चाहिएः

सिंह,,(1980)। महिला बाल अपराधी का व्यक्तित्व एवं सामंजस्य का अध्ययन । बाल मनोविज्ञान, 13,52-59


टॉप                                                                             होम